डीजीपी ने शहीद/मृत पुलिस कर्मियों/एसपीओ के परिजनों के लिए विशेष कल्याण राहत/अनुदान/वित्तीय सहायता के रूप में 1.77 करोड़ रुपये को दी मंज़ूरी

श्रीनगर 13 सितंबर: शहीद हुए या सेवा के दौरान निधन हो चुके पुलिसकर्मियों के परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से, पुलिस महानिदेशक, जम्मू-कश्मीर, श्री दिलबाग सिंह ने शहीद/मृत पुलिस कर्मियों के परिजनों के लिए विशेष कल्याण राहत /अनुग्रह राशि/वित्तीय सहायता के रूप में 1.77 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।

पीएचक्यू के विभिन्न आदेशों के तहत डीजीपी ने शहीद एस.आई.(एम) फारूक अहमद मीर के कानूनी वारिसों के पक्ष में 38 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और आतंकवादी हमले में शहीद हुए शहीद सिपाही सरफराज अहमद के परिजनों के पक्ष में 22 लाख रुपये की विशेष कल्याण राहत की मंजूरी दी है। डीजीपी ने शहीद उपाधीक्षक परवीन कुमार के परिजनों के पक्ष में उनकी बेटी की शादी के सिलसिले में 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता भी मंजूर की।

इसी प्रकार मृतक एसआई नरेश कुमार, एएसआई अजीत सिंह, एचसी (एम) मंजूर अहमद और एचसी मोहम्मद रजाक, सिपाही अमन बंद्राल, के आश्रितों / कानूनी वारिसों के पक्ष में 22 लाख रुपये प्रत्येक की विशेष कल्याण राहत स्वीकृत की गई है। जिनकी सेवा के दौरान बीमारी/प्राकृतिक आपदा के कारण मृत्यु हो गई थी।

इसके अलावा, डीजीपी ने मृतक एसपीओ बशीर अहमद पर्रे के आश्रितों / कानूनी वारिसों के पक्ष में छह लाख रुपये की विशेष कल्याण राहत की मंजूरी दी है, जिनका विभाग के साथ जुड़ाव के दौरान निधन हो गया था। साथ ही जीवन-उपभोक्ता बीमारी (सीए फेफड़े) के इलाज पर होने वाले खर्च को चुकाने के लिए सेवानिवृत्त एसआई अली मोहम्मद के पक्ष में 50 हजार रुपये की कल्याण राहत मंजूर की।

इन शहीदों/मृतकों के परिजनों को उनकी संबंधित इकाइयों के माध्यम से अंतिम संस्कार करने के लिए एक-एक लाख रुपये का भुगतान किया जा चुका है। विशेष कल्याण राहत अंशदायी पुलिस कल्याण कोष से स्वीकृत की जाती है।

पुलिस मुख्यालय अपने कर्मियों और उनके परिवारों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चला रहा है। पुलिस कर्मियों और एसपीओ के बच्चों के लिए भी योजनाएं हैं। इसके अलावा, शहीदों के परिजनों, उनके बच्चों और सेवानिवृत्त पुलिस कर्मियों और उनके जीवनसाथी के लिए भी योजनाएं हैं।